मध्यप्रदेश में कोरोनावायरस की दूसरी लहर अपनी चरम सीमा पार कर चुकी है हर दिन हजारों की संख्या में कोरोना से संक्रमित मरीज मिल रहे हैं किसकी लापरवाही के कारण आज मध्य प्रदेश की जनता को कोरोना जैसी महामारी की मार झेलनी पड़ रही है।।

प्रदेश के मुखिया और मध्य प्रदेश शासन हर बार अपने बयानों में और विज्ञापनों में संक्रमण के लिए आम जनता को दोषी बता रहे हैं और प्रतिबंध एवं लॉकडाउन की बात कर रहे हैं मध्य प्रदेश की जनता को कोरोनावायरस की दूसरी लहर का जिम्मेदार बता रहे हैं।।

आलोचकों का कहना है कि मध्यप्रदेश में कोरोनावायरस की दूसरी लहर की जिम्मेदारी सरकार की है जनता ने नहीं बल्कि नेताओं ने फेस मास्क हटाए थे इन नेताओं को देखकर जनता ने भी अपने फेस मास्क उतार दिए कुछ समय पहले विधानसभा बजट सत्र में भी कुछ विधायकों ने फेस मास्क नहीं पहना था ऐसी स्थिति में जनता को दोषी बताना उचित नहीं है पहले ही प्रदेश में अन्य राज्यों का आवागमन रोक दिया जाता, सीमाएं सील कर दी जाती तो मध्यप्रदेश में इतना संक्रमण नहीं नहीं फैलता ।।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *